May 11, 2021

vedicexpress

vedicexpress

वेदांत आश्रम में रामानंदाचार्य जयंती पर निकाली यात्रा , की गोष्टी

वेदांत आश्रम में रामानंदाचार्य जयंती पर निकाली यात्रा , की गोष्टी

गंजबासौदा :-वेदांत आश्रम में समायोजित आद्यजगदगुरु रामानंदाचार्य जयंती के पावन अवसर पर बैतोली से वेदांत आश्रम तक यात्रा निकाली गई जिसके समापन पर विद्वत गोष्ठी आयोजित की गई।
विद्वत गोष्ठी में विराजमान परम पूज्य जगदगुरु स्वामी वेदांती महाराज, न्यायधीश राकेश शर्मा, न्यायधीश मति सपना शर्मा,पूर्व विधायक हरिसिंह रघुवंशी जी एवं वरिष्ठ समाजसेवी राजेश माथुर ने अतिथि के रूप उपस्थित होकर जगदगुरु रामानंदाचार्य जी महाराज के पावन चरित्र पर प्रकाश डाला।


गोष्ठी को संबोधित करते हुए परम पूज्य जगदगुरु स्वामी वेदांती जी ने कहा कि अनंत श्री विभूषित परम पूज्य आद्यजगदगुरु स्वामी रामानंदाचार्य जी महाराज रामानंद संप्रदाय के संस्थापक होने के साथ साथ सामाजिक समरसता के प्रतीक हैं, आधुनिक भारत के निर्माता हैं जिन्होने जाति पाती के बंधन में जकङी हुई चेतनाओं को जागृत करने का कार्य किया है। भविष्य पुराण में ऐंसा कहा गया है कि :-
“रामानंदः स्वयं रामः प्रर्दूभूतो महीतले”
अर्थात भगवान श्री राम स्वयं ही भगवान रामानंद जी महाराज के रूप में धरा धाम पर मानव कल्याण हेतू अवतरित हुए थे। उनके द्वादश शिष्यों में परम पूज्य अनंतानंद जी महाराज, परम पूज्य पीपानंद जी महाराज, परम पूज्य सुरसुरानंद जी महाराज, धन्ना जाट, कबीरदास जी महाराज, रविदास जी महाराज जैसे प्रमुख संत महापुरुष हैं।
आज ऐंसे परम पूज्य आद्यजगदगुरु भगवान श्री रामानंद जी महाराज की पावन जयंती है पर हमें उनके दिखाए पदचिन्हो पर चलने का संकल्प करना चाहिए क्योंकि जब तक समाज में ऊंच नीच की भावान व्याप्त है तब तक राष्ट्र का कल्याण संभव नहीं है।