June 17, 2021

vedicexpress

vedicexpress

सौर ऊर्जा से बिजली समस्या का निदान “सफलता की कहानी”

सोलर पम्प स्थापना हेतु ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किये जाते हैं, जिसमें भारत शासन व मध्यप्रदेश शासन द्वारा अनुदान दिया जा रहा है। इस योजनांतर्गत कृषक को सोलर पम्प का लाभ इस शर्त पर दिया जाएगा कि कृषक की कृषि भूमि के उस खसरे/बटांकित खसरे पर भविष्य में विद्युत पम्प लगाये जाने पर उसको विद्युत प्रदाय पर कोई अनुदान देय नहीं होगा। कृषक द्वारा स्वप्रमाणीकरण भी दिया जाएगा कि वर्तमान में कृषक के उस खसरे/बटांकित खसरे की भूमि पर विद्युत पम्प संचालित/ संयोजित नहीं है। यदि सम्बन्धित कृषक उक्त विद्युत पम्प का कनेक्शन विच्छेद करवा लेता है अथवा उस पर प्राप्त अनुदान छोड़ देता है, तब उसे सोलर पम्प स्थापना पर अनुदान दिया जा सकता है।

बिजली कब आएगी, बिजली का बिल कर भरना है इत्यादि की चिन्ता से  मुख्यमंत्री सोलर पम्प योजना से मुक्ति से मुक्ति मिली है। यह कहना है गंजबासौदा में ग्राम सेमरी के कृषक परेश शाह का। उन्होंने शासन योजना के तहत अपने खेत पर सौर ऊर्जा से संचालित सिंचाई व्यवस्था के प्रबंध सुनिश्चित किए है। अक्षय ऊर्जा से लाभांवित होने के फायदो को गिनाते हुए उन्होंने कहा कि कभी भी बटन दबाओ और कभी भी सिंचाई के लिए पानी पाओ। लगभग ढाई बीघा के कृषक शाह ने बताया कि मुख्य सड़क मार्ग पर होने के कारण खेत की सदैव देखभाल करता रहा हूं। रबी फसल के अलावा उद्यानिकी फसलों का उत्पादन मेरे द्वारा लिया जा रहा है।
    सौर ऊर्जा से सिंचाई के प्रबंध सुनिश्चित हो जाने से जहां पैदावार में बढोतरी हुई और आर्थिक समृद्धि में वृद्धि हुई है।

मुख्यमंत्री सोलर पम्प योजना

राज्य के किसानो को डीज़ल पम्प की सहायता से खेतो में सिचाई की जाती है । जिससे किसानो के काफी खर्च भी होता है । डीजल के उपयोग से पम्प द्वारा सिंचाई करने से प्रदूषण भी काफी होता है इन सभी परशानियों से निपटने की लिए राज्य सरकार ने एमपी मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना 2021 की शुरू किया है ।इस योजना के तहत एमपी के किसानो को खेतो की सिचाई करने के लिए सोलर  पम्प उपलब्ध कराना । इस Madhya Pradesh Solar Pump Yojana 2021 के ज़रिये किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सब्सिडी दर पर सोलर पम्प उपलब्ध करवाना एवं राज्य में बागवानी की फसलों को बढ़ावा देना ।इन सोलर पम्प की सहायता से खेतो में सिचाई करने से पर्यावरण प्रदूषण कम करना और किसानो की आय में वृद्धि करना